Madhya Pradesh : मध्य प्रदेश पुलिस द्वारा पत्रकारों को थाने के अंदर नंगा करके उनका फोटो सोशल मीडिया वायरल किया गया और गंभीर धाराओं में फर्जी मुकदमे और कई धाराएं पंजीकृत की गई बड़ी खबर।

मध्य प्रदेश के सीधी जिले थाना कोतवाली क्षेत्र से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। थाने के बाहर कुछ लोग धरना प्रदर्शन कर रहे थे। धरना प्रदर्शन को कवरेज करने के लिए mpsandeshnews24 के पत्रकार पहुंचे कि आखिर कुछ लोग थाने के बाहर धरना प्रदर्शन क्यों कर रहे हैं। थाने के बाहर धरना प्रदर्शन कर रहे मध्य प्रदेश पुलिस को यह बात बुरी लगी और उन्होंने धरना प्रदर्शन कर रहे लोगों पर और खबर को कवर कर रहे पत्रकारों को लाठी-डंडों से पहले दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया। उसके बाद थाना कोतवाली में अर्धनग्न अवस्था में खड़ा करके उनका फोटो सोशल मीडिया पर वायरल किया गया। और लगभग 18 घंटे थाने में बंद रखा और पत्रकारों पर कई मुकदमे कई धाराओं में पंजीकृत किए गए। अगर कोई भी पत्रकार खबर लिखने का काम करेगा या खबर छापने का काम करेगा या बोलने का काम करेगा तो मध्य प्रदेश पुलिस पहले उसको दौड़ा-दौड़ा कर पीटेगी उसके बाद उसको नग्न अवस्था में खड़ा करके उसका फोटो सोशल मीडिया पर वायरल कर देगी और कई मुकदमे उसके ऊपर ठोक देगी।

आप देख सकते हैं जहां भारतीय संविधान भारत के सभी नागरिकों और पत्रकारों को लिखने और बोलने की आजादी देता है वहां मध्य प्रदेश पुलिस ऐसा करने पर आपको नंग्गा खड़ा करके आपका फोटो सोशल मीडिया पर वायरल कर देगी।
आखिर पूरा मामला क्या है मैं आपको बताता हूं केदारनाथ शुक्ला जो कि मध्य प्रदेश सीधी जिले में भाजपा के विधायक है उन्होंने थाना कोतवाली सीधी जिला को एक तहरीर लिखकर कहा कि कोई व्यक्ति अनुराग मिश्रा नाम की आईडी से लगातार मेरे पिताजी मेरी बहन और जीजा जी के विरुद्ध टिप्पणी कर रहा था और आपत्तिजनक शब्दों का उपयोग कर रहा था इसके बाद मैंने पुलिस प्रशासन को लिखित शिकायत दी थी। साइबर सेल ने 3 महीने तक जांच की और फेसबुक की ओर से मिली जानकारी के बाद पुलिस ने कार्यवाही की पुलिस की जांच में यह पता चला कि नीरज कुंदेर ही ये आईडी चलाते हैं और उनका नंबर उस आईडी पर रजिस्टर्ड था। फर्जी फेसबुक आईडी से यहां के जनप्रतिनिधि और उनके पुत्र के खिलाफ facebook पर अनर्गल बातें लिखी थी।

इस पूरे मामले की जांच और फेसबुक से मिली जानकारी के बाद एक मुकदमा पंजीकृत कर के व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था। थाना कोतवाली सीधी जिले का आरोप है फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर जो फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी करता था उसके समर्थन में 9 से 10 लोगों ने थाने के बाहर नारेबाजी और अनर्गल बातें कर रहे थे और माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे थे इन सभी के साथ कनिष्क तिवारी जो कि यूट्यूब पत्रकार है वह भी शामिल थे। और इसके बाद धरना कर रहे सभी को गिरफ्तार किया गया था और पुलिस अभिरक्षा में रखा गया था। थाना प्रभारी मनोज सैनी ने बताया कि हमने इन सभी को इसलिए अर्धनग्न किया था ताकि यह लोग हवालात में फांसी ना लगा ले।
दूसरी तरफ पत्रकार कनिष्क तिवारी ने बताया कि मुझे सूचना मिली कि कुछ लोग धरना प्रदर्शन कर रहे हैं मैं मामले को कवर करने गया था। क्योंकि मैं यहीं का हूं इसलिए यहां के मुद्दे उठाता रहता हूं मेरी युटुब चैनल पर लगभग 1 लाख 70 हजार लोग जुड़े हुए हैं मेरी कई खबरें ऐसी हैं जिससे प्रशासन को लगता है कि मैं उनके खिलाफ खबरें लिखता हूं और विधायक जी को भी यही लगता है कि में उनके खिलाफ खबर लिखता हूं। मैं तो सिर्फ खबर को अपने कैमरे में रिकॉर्ड कर रहा था तभी अचानक से पुलिस बल ने सभी को लाठी-डंडों से और दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया और सभी को थाने ले जाकर अर्धनग्न अवस्था में फोटो खींचकर सोशल मीडिया पर वायरल किया गया और हमें थाने में बुरी तरह पीटा गया दो-तीन लोग के साथ काफी मारपीट की गई और उसमें एक व्यक्ति ऐसा भी था जिसकी किडनी खराब थी। उसको भी बुरी तरह लॉकअप में बंद करके रखा गया और पीटा गया।

लगभग शाम के 6:00 बजे हमें छोड़ा गया यह जो फोटो वायरल हो रहा है जब हमें थाने में अर्धनग्न किया गया था तब विधायक के कुछ लोग थाने में मौजूद थे उन्होंने हमारी फोटो और वीडियो बनाई थी मैं कई सालों से पत्रकारिता कर रहा हूं मेरा भविष्य थाना प्रभारी ने सिर्फ एक फोटो से बर्बाद कर दिया है फोटो वायरल होने के बाद थाना प्रभारी और चौकी इंचार्ज को निलंबित करने के आदेश दे दिए हैं। उसके बाद लगातार मेरे परिवार को लगातार धमकियां मिल रही है।

मेरी बेटी जो कि 10 साल की है उसके पास स्मार्टफोन है उसके पास मेरा वायरल फोटो आया उसने मुझसे कहा पिताजी आप फोटो में नंग्गे क्यों खड़े हो शर्म के मारे में अपनी बेटी को जवाब नहीं दे पा रहा हूं कि मैं उसको क्या समझाऊं और क्या जवाब दूं मुझसे थाना प्रभारी ने अलग कमरे में ले जाकर कहां कि तुम विधायक के खिलाफ खबरें क्यों चलाते हो और मेरे खिलाफ खबरें क्यों चलाते हो मैंने कहा सर मैं संवैधानिक तरीके से खबरें दिखाता और लिखता हूं।
अब आप देख सकते हैं प्रशासन पत्रकारों को सिखाएगा कि कौन सी खबर लिखनी है, कौन से खबर चलानी है और कौन से खबर जनता तक पहुंचानी है। पत्रकार ही एक ऐसा माध्यम है जो देश की छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी खबरें जनता के सामने लेकर आता है। अगर शासन ही प्रशासन का काम करेगा तो फिर प्रशासन का क्या मतलब है अगर प्रशासन ही अपने हाथों में कानून ले लेगा तो फिर न्यायालय का क्या मतलब है।

देशभर के पत्रकारों में आक्रोश है पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर कई सवाल भी उठ रहे हैं क्योंकि जिस तरह एक सच्चे ईमानदार और निष्पक्ष पत्रकार को सिर्फ खबर को कवर करने के लिए पूरे देश में बेइज्जत किया गया उस पर कई धाराओं में फर्जी मुकदमें पंजीकृत भी किए गए और लगातार पत्रकार के परिवार को धमकाया जा रहा है यह लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के वह सच्चे सिपाही हैं जिन्होंने ना तो सरकारी अफसरों के तलवे चाटे और ना ही सरकार और सरकार के नुमाइंदों की चाटुकारिता की इनका कसूर इतना था कि उन्होंने सच को सच कहने की हिम्मत दिखाई और सिला यह मिला कि पुलिस थाने में इन्हें नंगा करके बेइज्जत किया गया मानवता को शर्मसार करने वाला यह वायरल फोटो ने पूरे देश को हिला दिया है।

आज पूरे देश के सामने मध्य प्रदेश पुलिस ने कनिष्क तिवारी जैसे सच्चे पत्रकार को बेइज्जत कर दिया है। अब समस्या यहां पर है कि कनिष्क तिवारी जनता और समाज के सामने अपना चेहरा कैसे दिखाएं जो कि पहले ही मध्य प्रदेश पुलिस ने कनिष्क तिवारी के मुंह पर कालिख पोत दी है। मध्य प्रदेश पुलिस कनिष्क तिवारी को पहले जैसे सम्मान दिला पाएगी एक पत्रकार होने के नाते मेरा संबंधित अधिकारियों से निवेदन है कि जिस समय पत्रकार को थाने के अंदर अर्धनग्न क्या गया था और उसके साथ जो मारपीट की गई थी और उसके साथ जो दुर्व्यवहार किया गया था थाने में मौजूद सभी पुलिसकर्मियों को निलंबित किया जाए और इनके खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा चलाते हुए निलंबित किया जाए।

फिलहाल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कड़ी जांच के आदेश देते हुए स्पष्ट शब्दों में कहा है कि जिसने भी कानून को अपने हाथ में लेने की कोशिश की है उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो सीधी जिले के जिलाधिकारी और एसएसपी ने तुरंत सोशल मीडिया पर पत्रकार के फोटो को संज्ञान में लेते हुए थाना प्रभारी और चौकी इंचार्ज को निलंबित करते हुए लाइन हाजिर कर दिया है फिलहाल पुलिस गंभीरता से जांच में लग गई है। धन्यवाद

पत्रकार वसीम अहमद

Share on

Leave a Reply

Your email address will not be published.

City News